गोपाल भार्गव ने सीएम कमलनाथ को लिखा पत्र, दी ये सलाह

भोपाल। लोकसभा चुनाव के परिणाम आने से पहले ही मध्य प्रदेश में विधानसभा सत्र बुलाए जाने को लेकर वार-पलटवार जारी है. नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने सीएम कमलनाथ को उनके पत्र को राजनीतिक रूप से न लेने की सलाह दी है.नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने सीएम को जवाब देते हुए कहा कि उनके पत्र को राजनीतिक रूप से ना देखते हुए प्रदेश की जनसमस्याओं के तौर पर देखा जाए और विधानसभा सत्र बुलाया जाए. उन्होंने लिखा है कि सीएम द्वारा भेजा गया पत्र उन्हें मिला है. गोपाल भार्गव ने कहा है कि जिन मुद्दों पर उन्होंने विधानसभा सत्र बुलाने की मांग की थी सीएम ने उनके बारे में सतही जानकारी देकर विषयों की गंभीरता को कम करने का प्रयास किया है.

gopal bhargav wrote letter

गोपाल भार्गव ने पत्र लिखकर सीएम को दिया जवाब

गोपाल भार्गव ने कहा कि मध्य प्रदेश में समस्याएं इतनी विकराल है कि सीएम कमलनाथ अपने दो प्रश्नों के पत्र के माध्यम से इनका उत्तर नहीं दे सकते हैं. नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि इसी वजह से उन्होंने राज्यपाल महोदय और सीएम कमलनाथ से प्रदेश के ज्वलंत मुद्दों पर तात्कालिक चर्चा की जरूरत बताई है. गोपाल भार्गव ने लिखा है कि चर्चा व्यापक हो, प्रश्न-उत्तर हो, ध्यानाकर्षण हो और जरूरी हो तो स्थगन सूचना नियम 139 आधे घंटे की चर्चा के द्वारा सभी पक्षों के विधायक चर्चा में भाग ले सकें. इसके लिए लोकतंत्र में विधानसभा ही एकमात्र उचित और सक्षम माध्यम है.

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि उनका अनुरोध है कि सत्र बुलाने की मांग को राजनीतिक नजरिए से ना देखें बल्कि जन समस्याओं को उठाने व हल कराने के सार्थक दृष्टिकोण से देंखे. जिससे जल्द हल निकल सके. हालांकि माना जा रहा है कि नेता प्रतिपक्ष द्वारा विधानसभा सत्र बुलाए जाने को लेकर जो पत्र राज्यपाल आनंदीबेन पटेल को लिखा है. उससे बीजेपी खासी नाराज है क्योंकि उन्होंने यह पत्र खुद के निर्णय से लिखा है. उन्होंने संगठन से इस बारे में किसी तरह की सलाह मशविरा नहीं किया है.

0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *